SEO क्या है कैसे करें पूरी जानकारी | best 3 seo technique

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका vyaparsikho मे आज की इस पोस्ट SEO kya hai और kaise kare मे. आज हम आपको बेसिक से  SEO से जुड़ी वो हर जानकारी साँझा करने जा रहे है, जो आपको अपने ब्लॉग, website और ब्लॉग पोस्ट को ना सिर्फ गूगल पर रैंक करवाने मे मदद करेगी बल्कि आपके ब्लॉग की रैंकिंग, DA, PA, को भी increase करने मे मील का पत्थर साबित होंगी.

SEO क़ी शुरुआत कैसे हुई 

दोस्तों अभी 2022 चल रहा है | यदि आज से 8 से 10 साल पहले की बात करें तो SEO नाम की कोई चीज ही नहीं हुआ करती थीं. लेकिन जैसे जैसे दौर बदला, कॉम्पिटिशन बढ़ने लगा, सिस्टम और पॉलिसी मे बहुत से बदलाव होने लगे. Google का एल्गोरिथम अपडेट होता गया. 

जिस वजह किसी भी ब्लॉग पोस्ट को या video को रैंक करवाना एक चैलेंजिंग काम बन चुका था. तो ऐसे मे जन्म हुआ SEO का. आज के दौर मे बिना SEO के हम ब्लॉग पोस्ट या video को वायरल करवाना तो दूर उसको थोड़ा सा भी रैंक नहीं करवा सकते. 

यदि बात 2021 ब्लोगिंग की करें तो बिना SEO के आपकी पोस्ट गूगल मे एग्जिस्ट ही नहीं करेगी. Seo की सारी भागदौड़ SERP के लिए होती है.

SERP क्या होता है?

SERP का अर्थ होता है सर्च इंजन रिज़ल्ट पेज. Search engine पर search किये जाने वाले keyword के आधार “search ingine”  वही रिजल्ट show करता है जो search किये गए keyword से सम्बंधित होते है.

ज़ब भी आप गूगल पर कुछ सर्च करते हो तो आपके सामने पहले पेज पर जितने भी सर्च रिजल्ट दिखाई देते है उन्हें SERP कहा जाता है. सर्च करने के बाद दिखाई देने वाला पहला पेज. तो ऐसे मे SEO को समझना और सीखना बहुत जरुरी हो जाता है. 

चिंता करने की जरूरत नहीं,हम आपको बहुत आसान शब्दों के माध्यम से SEO के बेसिक और एडवांस लेवल तक की हर जरुरी और छोटी बड़ी जानकारी देंगे,  ताकी आप भी एक स्मार्टवर्क करके सफलता हासिल कर सकें. 

दोस्तों SEO की सबसे अधिक जरूरत ब्लॉगिंग के क्षेत्र मे पड़ती है इसलिए हम ब्लॉगिंग को ध्यान मे रख कर ही आपको अब seo की सम्पूर्ण (बेसिक से एडवांस level तक की) जानकारी देने जा रहे है.

Seo

 

SEO-optimization करना क्यों जरुरी है. 

definition of seo in hindi – दोस्तों जैसे शरीर को ग्रो करने के लिए शरीर को जरुरी पोषक तत्त्वों की आवश्यकता होती है, ठीक वैसे ही एक ब्लॉग post and pages को ऑर्गेनिक रूप से ग्रो करवाने के लिए हमें SEO की आवश्यकता पड़ती है. seo is best technique for achieve a high ranking SERP ON google|

जो लोग अभी ब्लॉगिंग मे नए है उनमे से जादातर ब्लोगर्स ऐसे होते है जिन्हे SEO की कोई जानकारी नहीं होती,  और कुछ ब्लोगर्स ऐसे होते है जिन्हे seo की या तो अधूरी जानकारी होती है या फिर गलत जानकारी होती है, जिस वजह से बहुत लम्बे समय तक उनका ब्लॉग एवम आर्टिकल्स ऑर्गेनिक रूप से ग्रो नहीं हो पा रहा होता. ऐसे मे उनके लिए अपने blog पर ऑर्गेनिक ट्रेफिक जुटा पाना एक बड़ा चेलेंज बन जाता है. 

तो ऐसे मे SEO क्यों जरुरी है, से ज़ादा जरुरी यह समझना हो जाता है की *SEO है क्या? *

 क्योंकि ये अच्छे से जानने के बाद आपको इस बात का  आधा जवाब खुद मिल जाएगा की एक ब्लॉग के लिए SEO क्यों और कितना जरुरी है. 

तो चलिए सबसे पहले साधारण सि भाषा मे जानते है –

 

 SEO क्या होता है? What is seo 

यदि कोई पूछे की define seo तो आप कह सकते हो की SEO का अर्थ होता है (search engine optimization) सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन. Seo का full form – search engine optimization है. यानी किसी भी video अथवा blog एवम blog आर्टिकल को सर्च इंजन के लिए ऑप्टिमाइज करना. ताकी सर्च इंजन ये समझ सकें की हमारी भी कोई पोस्ट या blog है जो सर्च इंजन मे मौजूद है. 

यानी अपने  लेख (आर्टिकल) अथवा ब्लॉग को गूगल पर रैंक करनवाने के लिए की जाने वाली ऐसी तमाम प्रकार की online छोटी बड़ी प्रक्रियाए होती है, जिसे हम अपने  एंड्राइड डिवाइस तथा कंप्यूटर, लेपटॉप, एवम इंटरनेट के माध्यम से अंजाम देते है.

इसको हम ON Page – OF Page SEO के नाम से भी जानते है. 

अपनी पोस्ट एवम ब्लॉग को गूगल पर रैंक करवाने के लिए किया जाने वाला हर सम्भव प्रयास SEO ही होता है.

seo

Seo करने का उद्देश्य

Seo करने का मुख्य उदेश्य अपने blog, website, post – pages & catageries को अच्छे से search इंजन के लिए optimize करना ताकी हमारे blog post &pages search ingine मे एक अच्छी रैंकिंग प्राप्त कर सके.

उदाहरण के तौर पर SEO प्रक्रियाएं

  • एक आकर्षक और लाइट थीम का चुनाव करना .
  • थीम का लेआउट यूजर फ्रेंडली और मोबाईल फ्रेंडली बनाना. 
  • गूगल सर्च कंसोल मे blog का साईट मैप सबमिट करना. 
  •  लिखा जाने वाला लेख मोबाईल फ्रेंडली बनाना. 
  • जो लेख आप लिखने जा रहे हो उसे पढ़ने वाले को ध्यान मे रख कर लिखना. 
  • पोस्ट लिखते समय इन बातों का खास ध्यान रखा जाता है की Text बहुत ज़ादा छोटे या बड़े या कलरफुल ना हो.
  • और एक ही पेराग्राफ मे सारी की सारी जानकारी ना दी हो. 
  • पोस्ट लिखने से पहले एक बेहतर टोपिक का चुनाव करना, 
  • उस टोपिक अथवा उससे सम्बंधित कीवर्ड के ऊपर रिसर्च करना की, इस कीवर्ड की मंथली सरचिस कितनी है? 
  • कॉम्पिटिटर कितने है, कीवर्ड डिफिकल्टी कितनी है? 
  • CPC कितना मिल रहा है?
  • onpage Seo टूल का उपयोग करना.

जैसी और भी कई तमाम seo प्रक्रियाए है जिन्हे हम अब seo के प्रकार के रूप मे समझेंगे. 

Types of seo | SEO के प्रकार 

👉SEO 4 प्रकार की होती है,

  1. on पेज seo
  2. off पेज seo
  3. ब्लेक हैट seo
  4. white hat seo

इन्हे seo टेक्नीक भी कहा जाता है. इनकी मदद से हम अपने blog डिजाइन, blog पेजिस, और blog पोस्ट को बेहतर से बेहतर बना सकते है. 

 

ON Page SEO क्या है? Seo kaise kare 

ज़ब भी हम ब्लॉगर या वर्डप्रेस के स्तर पर SEO को ध्यान मे रख कर अपने आर्टिकल को लिखने  और उसे यूजर फ्रेंडली बनाने के लिए  उसमे तमाम तरह के सुधार करते है जैसे 

👉अच्छी और सबंधित इमेज लगाना, 

👉आकर्षक और लय बद्ध तरीके से लिखना. 

👉टेबल of कंटेंट बनाना 

👉हेडिंग का उपयोग करना 

👉टोपिक के अनुसार बुलेट्स, नंबर और टेबल का उपयोग करना 

👉अच्छा टाइटल देना, 

👉अच्छा पर्मालिंक देना 

👉अच्छी डिस्क्रिप्शन लिखना 

👉अच्छे tags का प्रयोग करना

👉एंकर text देना लेख से संबन्धित FAQ add करना

👉लेख से संबंधित टोपिक अनुसार Internal और external link को लगाना. इसको कई लोग एंकर text के रूप मे जानते है. यह सब कुछ on page seo कहलाता है. यानी लेख को लिखने से लेकर  उसे पब्लिश करने तक उसी पेज पर रहकर की जाने वाली सभी प्रक्रियाए on page SEO कहलाती है.  

यूजर फ्रेंडली आर्टिकल का क्या मतलब होता है? 

यूजर फ्रेंडली का अर्थ होता है, की ज़ब कोई आपकी पोस्ट को पढ़ने आए तो वो अधिक से अधिक समय आपकी पोस्ट पर ठहर सकें. 

उसे आपकी पोस्ट से ये संतुस्टी प्रदान हो की उसे पर्याप्त जानकारी मिल चुकीं है. वो अपना अनुभव एक टिप्पणी के द्वारा अपनी सकारात्मक प्रतिक्रिया एवम सुझाव दे सकें. और आपकी पोस्ट को शेयर भी कर सकें. 

यूजर फ्रेंडली आर्टिकल पढ़ने वाले के मन मस्तिष्क पर अपना  सकारात्मक प्रभाव छोड़ती है. जिस वजह से वो बार बार आपके blog पर ही आना पसंद करता है साथ मे और लोगो को भी आपके blog पर आने के लिए प्रेरित करता है. 

तो दोस्तों यह तो आप अच्छे से समझ गए की on page seo है क्या?

लेकिन on page seo की इन सभी क्रियाओ को कैसे अंजाम दिया जाता है. ग़र इसे with प्रेक्टिकली गहराई से समझना चाहते हो तो यहां क्लिक करो – on page seo कैसे क़ी जाती है 

 

OFF Page SEO क्या है? 

OFF Page यानी page से बाहर रहकर की जाने वाली seo प्रक्रियाए. जैसे 

👉रिसर्च करके एक अच्छे कीवर्ड का चुनाव करना. 

👉डू फोलो बैकलिंक बनाना. 

👉सोशियल मीडिया पर अपने blog और आर्टिकल के links शेयर करना यानी प्रोमोट करवाना. 

👉blog का sitemap submit करना.

👉blog को google search console से जोड़ना 

[Link building – web mention – social media promotion यह सब off page seo का हिस्सा है.]

web mention kaise kare

best off page seo tool कौन सा है ? – aherfs tool off page seo करने के लिए सबसे बेस्ट है मै खुद बहुत सस्ते price मे aherfs seo tool खरीद कर seo कर रहा हूँ जिसका मुझे बहुत फाइदा मिला है इसी की मदद से मैंने low competion keyword खोज कर उन पर आर्टिकल लिखे और top rank दिलवाए \ जिससे मेरे ब्लॉग पर बहुत अच्छा ट्राफिक आने लगा है | 

Back links क्या होते है?

Back links एक प्रकार के hyper links होते है जो अलग अलग तरह के एंकर text का प्रयोग करके बनाए जाते है.

Back links भी दो प्रकार के होते है –

1. Do follow back link

2. No follow back link

Seo के अनुसार किसी भी blog की back links एक अनुपात मे होनी चाहिए.

जैसे मान लो आपके blog के 70 do follow back links है तो उस हिसाब से 30 नो follow back links होने चाहिए.

Do follow बैक लिंक क्या होता है? 

ज़ब आप किसी दूसरे के blog पर गेस्ट पोस्ट करते है तो वहाँ पर आपके बारे बताते हुए आपके blog का लिंक भी दे दिया जाता है ताकी ज़ब कोई यूजर आपकी उस पोस्ट को पढ़ता है और ग़र उसे वो पोस्ट पसंद आती है तो वो वहाँ पर दिये गए उस लिंक की मदद से आपके blog तक पहुँचता है. 

ठीक ऐसे ही और भी कई प्लेटफॉर्म है जैसे कोरा, facbook, youtube आदि. ज़ब भी कोई व्यक्ति ऐसे प्लेटफॉर्म से आपके द्वारा दिये गए लिंक से आपके blog  तक पहुँचता है तो इसे डू फोलो बैक लिंक (Do follow backlink) कहा जाता है. 

Google पर रैंक करवाने के मकसद से,  ON Page SEO से पहले की और पब्लिश करने के बाद की सभी प्रक्रियाओ को OFF Page SEO कहते है.

On page seo की वजह से गूगल (सर्च रिजल्ट) क्रोल करता हुआ आप तक (blog तक) पहुँचता है वही off page seo की मदद से आप खुद अपने blog को सर्च इंजन रिजल्ट तक लें कर जा सकते हो. 

इसलिए कॉम्पिटिशन को ध्यान मे रखते हुए off page seo भी  बहुत ज़ादा जरुरी है. 

Off page seo कैसे करें, बारीकी से समझने के लिए यहां क्लिक करें. 

 

ब्लैक हैट SEO

दोस्तों गूगल की भी कुछ पॉलिसीस होती है blog पोस्ट को लेकर, तो ज़ब हम उन पॉलिसीस से बाहर जाकर पोस्ट पब्लिश करते है तो वो ब्लैक हैट SEO कहलाता है. 

जैसा की आपको पहले भी बता चुके है की SEO का मतलब होता है सर्च इंजन के लिए अपने blog अथवा blog पोस्ट का ऑप्टिमाइज. 

तो ज़ब कोई गलत इंटेंशन से गलत तरीके से गूगल पर रैंक करने के लिए seo करता है तो यह ब्लैक हैट seo माना जाता है. 

लेकिन ज़ब गूगल पर रैंक कर रही ऐसी blog पोस्ट की काली सच्चाई गूगल एल्गोरिदम की पकड़ मे आती है तो ऐसी पोस्ट को गूगल से डिलीट कर दिया जाता और तो और इसका असर blog की DA PA पर भी पड़ता है. 

स्पैमिंग, हद से ज़ादा लिंकिंग, हैकिंग जैसी एक्टिविटी ब्लैक हैट seo कहलाती है. 

 

SEM क्या है

जिस तरह से seo का उपयोग search ingine पर अच्छी रैंकिंग हासिल करने के लिए होता है उसी तरह sEM करने का मकसद search engine पर रैंकिंग के साथ अच्छा ट्रेफिक लाना होता है.

SEM की full form है search engine marketing. जी हाँ दोस्तों शब्दों से ही क्लियर है की is strategy का उपयोग करके marketing की मदद से अपने blog post और वेबसाईट या फिर वीडियो को search results मे top रैंकिंग मे लाया जाता है.

जहाँ Seo लगभग पूरी तरह free तरीके से की जा सकती है वहीँ SEM के लिए पैसा खर्चा करना पड़ता है.

SEM मे पैसे देखर अपने blog वेबसाईट और वीडियो की प्रमोशन की जाती है.

 

SEO क्यों जरुरी है? 

बढ़ते कम्पिटिशन को देखते हुए अपने blog पोस्ट को rank करवा पाना एक बड़ी चुनौती बन चुका है. लेकिन जो अच्छे SEO करना जानता है वो अपने blog पोस्ट को rank करवा ही लेता है.

तो दोस्तों, इतनी जानकारी के बाद अब आप ये बात अच्छे से समझ गए होंगे की …. 

  • Blog को गूगल पर रैंक करवाने के लिए 
  • Blog पर शानदार आर्गेनिक ट्रेफिक लाने के लिए 
  • Blog से अच्छी अर्निंग करने के लिए और 
  • ब्लॉग को एक मुकाम तक पहुंचाने के लिए SEO बहुत ज़ादा जरुरी है. 

👉आप अपनी पोस्ट और ब्लॉग की ठीक तरह से SEO करके एक सफल ब्लॉगर बन सकते हो.

👉आज के कॉम्पिटिशन भरे टाइम मे आप seo, क्रिएटिविटी और स्मार्ट वर्क की मदद से ब्लॉगर की दुनियां मे नया मुकाम हासिल कर सकते हो. 

 

SEO करने के मकसद क्या है? 

दोस्तों seo के बारे अभी तक दी गई तमाम जानकारी को पढ़ कर आप इतना तो समझ ही गए होंगे की seo क्यों और कितना जरुरी है. अब बात करते है इसके मकसद की. SEO करने के कई मकसद होते है. 

कुछ लोग सिर्फ ऑर्गेनिक तरफ लेने के मकसद से seo करते है.तो कुछ लोग SERP के टोप पर रैंक करने के लिए seo करते है.दोस्तों ज़ब SERP मे हमारी पोस्ट रैंक कर रही होती है तो उससे ब्लॉगर को बहुत फायदा पहुँचता है. और ज़ब कोई blog पोस्ट लम्बे समय तक SERP के टोप पर बरकरार रहता है तो वो एक ब्रैंड के रूप मे लोगो मे लोकप्रिय हो जाता है. 

जिस वजह से उसके लिए इनकम क़ी कई तमाम सोर्सिस खुल जाते है. 

आर्टिकल को ऑप्टिमाइज़ करने के लिए कौन से SEO tool है?

दोस्तों अगर आप वर्डप्रेस पर ब्लॉगिंग कर रहे हो तो यहां हमें बहुत सारे seo tools plugins मिल जाते है. कुछ seo tools पेड भी होते है और कुछ free. 

seo

जादातर ब्लॉगर free seo tool का उपयोग करते है. अभी 2021 की बात करें तो, ज़ब आप अपने wordpress मे add new plugin मे जाकर seo plugin search करोगे तो वहाँ पर आपको ये 4 powerful seo plugin show होंगे.

जैसा की आप image मे देख रहे हो.

Seo tool
Seo tool

Image मे अभी आपको rank math की installation 1m+ दिख रही है आने वाले time मे ये सबसे top पर होगा. क्योंकि इसकी services सबसे ज़ादा बेहतर है.

Rank math मे अपने blog और post & pages को optimize करने के लिए काफ़ी सारे ऐसे एडवांस फीचर्स मिलते है जो बाकी seo tools मे paid पाए जाते है.

मै इनमे से rankmath का उपयोग कर रहा हूं क्योंकि ये मुझे सबसे best लगा इससे पहले मै yoast seo का उपयोग करता था.

आर्टिकल को ऑप्टिमाइज करने के लिए दो seo tool plugins बहुत ज़ादा उपयोग किये है क्योंकि इन्हे उपयोग करना बहुत आसान है. और इनसे बहुत अच्छा रिजल्ट हासिल होता है. 

पहला seo tool है – yost seo 

दूसरा seo tool है – RANK MATH

सबसे ज़ादा रेटिंग और इंस्टालेशन YOST SEO की है क्योंकि ये TOOL बहुत पहले से मौजूद है. 

वही ग़र रैंक मैथ की बात करें तो ये इंडिया द्वारा निर्मित tool है जो की अभी नया है. 

 

कौन सा seo tool ज़ादा बेहतर है. 

दोस्तों अभी तक मैं भी yost seo tool ही प्रयोग कर रहा था लेकिन ज़ब से रैंक मैथ के बारे मे पता चला है तब से मैं रैंक मैथ seo tool प्रयोग कर रहा हूं. 

क्योंकि रैंक मैथ पेज अथवा आर्टिकल को ऑप्टिमाइज़ करने के लिए  yost seo tool से कहीं ज़ादा ऑप्शन प्रोवाइड करवाता है. और इसे भी use करना बहुत आसान है. 

रैंक मैथ seo tool मे बहुत सारे फीचर्स ऐसे है जो yost seo tool मे पेड है यानी उनके लिए पैसे खर्चने पड़ेंगे. 

आने वाले टाइम मे रैंक मैथ, yost seo tool से कहीं ज़ादा आगे निकल जाएगा क्योंकि लोग बहुत तेज़ी से अब रैंक मैथ की तरफ जा रहे है. 

 

Seo tools के फायदे

यदि आप वर्डप्रेस पर ब्लॉगिंग करते है तो आपको यहां  बहुत सारे seo plugins मिला जाएंगे जिन्हे आप free मे install करके उनका आसानी से उपयोग करके blog को ऑप्टिमाइज कर सकते हो. 

इससे आप अपने अपने blog पेज के open होने  की स्पीड ज़ादा तेज़ कर सकते है. इसका फायदा ये होगा ज़ब कोई विजिटर 

Seo हमारे कंटेंट को पहले से बेहतर बनाता है और इस लायक बनाता है ताकी गूगल के एल्गोरिदम हमारे पेज को समझ सकें और उसे गूगल के पहले पेज पर ला सकें. 

ज़ब हमारा कोई पेज अथवा आर्टिकल गूगल के पहले पेज पर दिखाई देता है. तो यूजर उन्हें ज़ादा विश्वसनीय और अच्छे आर्टिकल मानते है. 

यदि पहले पेज पर हमारा आर्टिकल दिखाई देगा तो यूजर उन पर क्लिक करके हमारे blog तक पहुंचेगा. इस तरह हमारे blog पर ट्रेफिक बढ़ेगा. 

और यदि कंटेंट उसे अच्छा लगा तो तो वो अपना अधिक समय हमारे blog पोस्ट पर बिताएगा और शेयर भी करेगा.

 इससे हमारे blog की रैंकिंग बढ़ेगी गूगल का ध्यान हमारे blog की तरफ आकर्षित होगा उसका हम पर trust बढ़ेगा.  फिर  धीरे धीरे गूगल का एल्गोरिदम हमारे आर्टिकल को सबसे पहले नंबर पर लाएगा. 

👉ज़ब भी  गूगल पर कोई religious stories hindi  सर्च करता है तो सर्च रिजल्ट मे मेरी blog पोस्ट सबसे पहले दिखाई देती है. 

आप भी एक बार इस पोस्ट पर जरूर विजिट करें और अच्छे से देखें तथा समझे की क्यों मेरी ये पोस्ट गूगल के सर्च रिजल्ट मे टोप पर रैंक कर रहो है. ऐसी ही और भी कई कीवर्ड पर मेरे blog पोस्ट,  google सर्च रिजल्ट पर अच्छी रैंकिंग कर रहे है. 

इसी तरह आप भी अपने blog पोस्ट को google के टोप पर रैंक करवा सकते हो. जिससे अच्छा ऑर्गेनिक ट्रेफिक मिला सकें.

Seo marketing क्या होती है 

आप नीचे इस video को play करके seo-marketing के बारे विस्तार से समझ सकते हों और digital दुनियां मे उसका फायदा उठा सकते हों.

दोस्तों आज कल google web story bloggers के लिये बहुत ज़ादा चर्चा का विषय बना हुआ है.

क्योंकि 2022 में blog पर ऑर्गेनिक ट्रेफिक जुटाने का सबसे बेहतरीन सौर्स web story है. Web story kaise banaye और google discover में कैसे लाए जानिये सही तरीका

Seo FAQ

google के point of view से SEO क्यों जरुरी है?

google एक मशीन है. गूगल AI (आर्टिफिशल इंटेलिजेंस) और मशीनलर्निंग पर बेस्ड है. ये दोनों मिलकर गूगल के लिए एक एल्गोरिदम तैयार करती है जिसकी मदद से Google, सर्च किये जाने वाले कीवर्ड को मिनी सेकेंड मे खंगाल कर संबंधित रिजल्ट सामने ला देता है. Google आपके द्वारा किये जाने वाले on page seo की मदद से यानी कीवर्ड, टाइटल, की मदद से ये आसानी से समझ पाता है की आपका आर्टिकल किस से सम्बंधित है. ताकी वो सर्च रिजल्ट मे आपके आर्टिकल को क्राउल कर सकें.अब सर्च रिजल्ट के पहले नंबर पर किस blog आर्टिकल को दिखाना है यह उस आर्टिकल की गुणवत्ता, DA – PA or बैकलिंक्स पर निर्भर करता है. इसीलिए Google के point of view से SEO बहुत जरुरी है. 

आर्टिकल को गूगल पर रैंक करवाने मे कौन सि SEO का सबसे बड़ा रोल होता है?

वैसे तो on page और of page दोनों seo बहुत ज़ादा जरुरी है. लेकिन सबसे बड़ा रोल On Page SEO का ही होता है. 65% on Page SEO और बाक़ी of page SEO पर निर्भर करता है. इसी के साथ आपका कंटेंट अच्छा और बड़ा होना चाहिए. 

सबसे अच्छी seo स्ट्रेटिजी कौन सि है? 

इसका जवाब है कोई नहीं. जी हाँ, क्योंकि google समय समय पर अपनी पोलिसी और एल्गोरिदम सिस्टम मे बदलाव (updation) करता रहता है जिस वजह से किसी एक स्ट्रेटिजी पर निर्भर रहना या किसी एक को best समझना सही नहीं होगा. तो इसका एक ही हल है वो ये की आप खुद ही समय समय पर रिसर्च करते रहे. इससे आपका खुद का तजुर्बा बढ़ेगा, जानकारी बढ़ेगी,  और गूगल को और बारीकी से  समझने का मौका मिलेगा.जिसका फायदा सीधे तौर पर आपके blog पर एक सकारात्मक प्रभावित के रूप मे देखने को मिलेगा

क्या page speed मायने रखती है?

जी हाँ ! किसी भी पेज को SERP मे ऊपर आने मे या फिर अपनी पहली जगह (टोप रैंकिंग) पर बरकरार रहने मे पेज स्पीड बहुत बड़ा योगदान होता है. एक रिसर्च के अनुसार ज़ब गूगल पर कोई कुछ सर्च करता है तो ऐसे मे यदि blog पेज को open होने मे  5 सेकेंड से ज़ादा का समय लगाते है तो यूजर बैक कर जाता है और किसी दूसरे पेज पर चला जाता है. जिसका सीधा असर पेज की रैंकिंग पर पड़ता है. इसके बाद यूजर आपकी पोस्ट पर कितनी देर तक रुकेगा ये आपकी उस पोस्ट की गुणवत्ता पर निर्भर करता है.निर्भर करता है की आपका कंटेंट कितना अच्छा है.यहां पर अच्छा से मतलब है की कंटेंट मे कितनी जानकारी दी गई है, हर चीज को कितने अच्छे से एक्सप्लेन किया गया है. पढ़ने मे कितना आसान है. और कितने आसान तरीके से समझाया गया है. इस बात को प्रेक्टिकली समझने के लिए आपको on पेज seo पर ध्यान देना होगा. यदि आप अच्छे से on पेज seo करना सीख जाते है तो यह आपके लिए आसान हो जाएगा. 
 

 

Leave a Comment